आम चुनाव ईवीएम के बदले बैलेट पेपर से करवाए भाजपा: मायावती

आम चुनाव ईवीएम के बदले बैलेट पेपर से करवाए भाजपा: मायावती

लखनऊ। प्रदेश के स्थानीय निकाय चुनाव में मिली सफलता से खुश बहुजन समाज पार्टी प्रमुख मायावती ने भारतीय जनता पार्टी को चुनौती देते हुए कहा यदि वह लोकतंत्र में यकीन करती है तो आम चुनाव ईवीएम के बदले बैलेट पेपर से करवाए। उन्होंने कहा, ‘‘अगला लोकसभा चुनाव 2019 में है और यदि भाजपा कहती है कि उनके साथ में जनसमूह है और पूरे देश की जनता उनके साथ है तो वह बैलेट पेपर से चुनाव करवा के दिखाए। मैं यकीन के साथ कहती हूं कि भाजपा कभी नहीं जीत पाएगी।’बसपा प्रमुख मायावती ने निकाय चुनावों में पार्टी के प्रदर्शन पर खुशी जताई है।

मायावती ने कहा, ‘हमने उप्र में शहरी निकाय का चुनाव अपने चुनाव चिन्ह पर लडा और खुशी की बात यह है कि इन चुनावों में हमे दलितो के साथ साथ शहरो में महानगरो में बैकवर्ड क्लास ने भी वोट दिया। हमें सवर्णों मुस्लिम समाज ने भी बडे पैमाने पर वोट दिया। इस चुनाव में भी इन्होंने सरकारी मशीनरी का दुरूपयोग किया है नही तो हमारे और मेयर बनते।’ उन्होंने कहा, ‘ईवीएम को अलाहदा (अलग) कर दो बैलट पेपर से चुनाव लड़ाओ। सन 2019 में लोकसभा के आम चुनाव होने वाले है यदि भारतीय जनता पार्टी यह कहती है कि हमारे साथ में जनसमूह है पूरे देश की जनता उनके साथ है तो ईवीएम को किनारे कर दो बैलट पेपर से आप चुनाव कराओं मैं आपको दावे के साथ कहती हूं कि यदि यह बैलट पेपर से लोकसभा का आम चुनाव कराते है तो यह पावर में आने वाले नही है।’

चुनाव में गठबंधन की बाबत सवाल पूछे जाने पर मायावती ने इसे टालते हुए कहा, ‘बीएसपी किसका गठबंधन चाहती है जो सर्व समाज है, दलित है, आदिवासी है, बैकवर्ड क्लास है,माइनारिटीज में खासकर मुस्लिम समाज है, अपर कास्ट है तो हम इस देश में इन सब समाज को भाईचारे के आधार पर हम जोडना चाहते है। इससे बड़ा गठबंधन और क्या हो सकता है।’’ गौरतलब है कि निकाय चुनाव में सबको चौंकाते हुए बहुजन समाज पार्टी ने शानदार वापसी की है। बीएसपी ने महापौर की कुल 16 सीटों में से दो सीटों पर कब्जा जमाया। मेरठ और अलीगढ़ के मेयर पद पर बसपा के उम्मीदवार जीते।

Share