कांग्रेस विधायक के काफिले पर हमला, दबंगों ने दूर तक किया पीछा

कांग्रेस विधायक के काफिले पर हमला, दबंगों ने दूर तक किया पीछा

रायबरेली। उत्तर प्रदेश की रायबरेली लोकसभा सीट कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी की परंपरागत सीट है। इसे हॉट सीट माना जाता है और यह सीट हमेशा चर्चा में रहती है। मंगलवार को यहां राजनीति उस वक्त गरमा गई जब सदर सीट से कांग्रेस विधायक अदिति सिंह पर कथित रूप से जानलेवा हमला किया गया। बताया जा रहा है कि विधायक अदिति सिंह की गाड़ी काफी दूर तक दबंगों से बचते हुए आगे चलती रही और फिर अचानक अनियंत्रित होकर पलट गई।

जानकारी के अनुसार विधायिका की कार समेत उनके काफिले की तीन अन्य गाड़ियां भी पलट गई हैं। हादसे में विधायक अदिति सिंह घायल हो गई हैं, जिन्हें इलाज के लिए लखनऊ रिफर किया गया है। यह घटना रायबरेली में हरचंदपुर थाना क्षेत्र के मोदी स्कूल के पास हुई। दरअसल, अदिति सिंह रायबरेली जिला पंचायत अध्यक्ष अवधेश सिंह के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर हो रही वोटिंग में अपने समर्थकों के साथ गई थीं। अवधेश सिंह, सोनिया गांधी के खिलाफ चुनाव लड़ रहे बीजेपी प्रत्याशी दिनेश सिंह के भाई हैं और उनके ऊपर ही अदिति सिंह पर हमला करवाने का आरोप लगाया जा रहा है।

आरोप है कि पीछा कर रही गाड़ी से कुछ लोगों ने अदिति सिंह पर जानलेवा हमला किया। इस घटना में अदिति सिंह घायल हो गईं। उन्हें लखनऊ के एक अस्पताल में इलाज के लिए भर्ती कराया गया है। कई अन्य जिला पंचायत सदस्यों पर भी हमला किया गया। इस दौरान कथित रूप से गाड़ियों के काफिले पर पथराव और फायरिंग के बाद कई गाड़ियां हाइवे पर पलट गईं।

घटना बछरांवा के पास हुई। यहां के टोल प्लाजा और फ्लाइओवर पर जमकर बवाल हुआ। कई गाड़ियां पलट जाने से सड़क मार्ग पर यातायात भी बाधित हुआ। अदिति सिंह के समर्थकों का आरोप है कि पीछा कर रही गाड़ियों से अदिति सिंह पर फायरिंग भी की गई। बताया जा रहा है कि मंगलवार को रायबरेली जिला पंचायत अध्यक्ष के खिलाफ अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग हो रही है। बता दें कि बीजेपी के लोकसभा प्रत्याशी दिनेश सिंह के भाई अवधेश सिंह यहां के जिला पंचायत अध्यक्ष हैं और उनके खिलाफ ही अविश्वास प्रस्ताव पर वोटिंग हो रही थी।

अदिति सिंह रायबरेली के निर्दलीय विधायक रहे बाहुबली अखिलेश सिंह की बेटी हैं। अखिलेश के गिरते स्वास्थ्य की वजह से उनकी बेटी की राजनीति में एंट्री हुई। अदिति ग्रेड-1 से ही बाहर चली गई थीं। वह 10 साल मसूरी में रहीं और फिर दिल्ली गईं। यहां से पढ़ाई करने अमेरिका गईं और वहां से आकर पिता की राजनीतिक विरासत संभाली। 29 वर्षीय विधायक अदिति सिंह को प्रियंका गांधी वाड्रा के करीबी सहयोगियों में से एक माना जाता है।

Share