गाजियाबाद में पत्रकार की हत्या, छेड़छाड़ का किया था विरोध

गाजियाबाद में पत्रकार की हत्या, छेड़छाड़ का किया था विरोध

गाजियाबाद। उत्तर प्रदेश के गाजियाबाद में एक पत्रकार को उसकी बेटियों के सामने गोली मार दी गई। यह पूरी घटना सीसीटीवी कैमरे में कैद हो गई है। विजय नगर इलाके में सोमवार रात पत्रकार को गोली मारी गई, जब वह अपनी दो नाबालिग बेटियों के साथ बाइक पर सवार थे। घटना तब हुई जब पत्रकार विक्रम जोशी अपनी बहन के घर से लौट रहे थे। घात लगाए पांच हमलावरों ने उनका रास्ता रोका और हमला कर दिया। जोशी को गंभीर हालत में अस्पताल में भर्ती कराया गया, जहां बुधवार को उन्होंने उपचार के दौरान दम तोड़ दिया।

प्राप्त जानकारी के अनुसार विक्रम जोशी ने विजय नगर पुलिस स्टेशन में कुछ दिनों पहले एक शिकायत दर्ज कराई थी, जिसमें उन्होंने कुछ लोगों पर भांजी के साथ छेड़खानी करने का आरोप लगाया था। पीड़ित के भाई अनिकेत जोशी ने कहा, कुछ लोग कुछ दिन पहले हमारी भांजी के साथ छेड़खानी कर परेशान कर रहे थे और मेरे भाई विक्रम जोशी ने इसका विरोध किया था और पुलिस में शिकायत भी दर्ज कराई थी। एक मामला भी दर्ज किया गया था, जिसके बाद उन बदमाशों ने उन्हें गोली मार दी।

वीडियो में, हमलावरों के घटनास्थल से फरार हो जाने के बाद पत्रकार की बेटी को उनकी (जोशी) ओर रोते-चिल्लाते हुए भागते देखा जा सकता है। वीडियो में लड़की अपने पिता के बगल में सड़क पर बैठी हुई और राहगीर से मदद लेने की कोशिश करती नजर आ रही है। तेजी से कार्रवाई करते हुए, गाजियाबाद पुलिस ने इस मामले में आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। गाजियाबाद के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक कलानिधि नैथानी ने कहा, हमने गाजियाबाद के विजय नगर में एक पत्रकार को कुछ बदमाशों द्वारा गोली मारने के मामले में अब तक 9 आरोपियों की गिरफ्तारी हो चुकी है। लापरवाही के आरोप में प्रताप विहार चौकी के इंचार्ज राघवेंद्र सिंह को सस्पेंड किया जा चुका है। मुख्य आरोपियों की पहचान मोहित, दलबीर, आकाश, रवि और शाकिर के रूप में हुई है।

इस बीच, कांग्रेस ने उत्तर प्रदेश में कानून-व्यवस्था की स्थिति के लिए योगी आदित्यनाथ सरकार की आलोचना की है। कांग्रेस कार्यकारिणी के सदस्य जितिन प्रसाद ने कहा, कानून और व्यवस्था ध्वस्त हो गई है और यहां तक कि पत्रकारों को भी नहीं बख्शा जा रहा है। यह सब पुलिस की नाक के नीचे हो रहा है।

कांग्रेस ने कहा कि जोशी ने अपनी भांजी से छेड़छाड़ की शिकायत पुलिस से की थी। परिजनों का आरोप है कि बदमाशों ने इसी बात का बदला लेने के लिए जोशी पर हमला कर दिया। इस मामले में पुलिस ने समय पर कार्रवाई नहीं की। जोशी सोमवार रात अपनी बेटियों के साथ बाइक से जा रहे थे। रास्ते में बदमाशों ने उन्हें रोककर मारपीट की, उनके सिर में गोली मार दी।

इस मामले में कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने मंगलवार को उत्तर प्रदेश सरकार पर निशाना साधा। उन्होंने ट्वीट किया- गाजियाबाद एनसीआर में है। यहां कानून व्यवस्था का ये आलम है तो आप पूरे यूपी के हाल का अंदाजा लगा लीजिए। एक पत्रकार को इसलिए गोली मार दी गई, क्योंकि उन्होंने भांजी से छेड़छाड़ की तहरीर पुलिस में दी थी। इस जंगलराज में कोई भी आमजन खुद को कैसे सुरक्षित महसूस करेगा?

Share