कंगना की याचिका पर अब 22 सितंबर को होगी सुनवाई, जानिए पूरा मामला

कंगना की याचिका पर अब 22 सितंबर को होगी सुनवाई, जानिए पूरा मामला

मुंबई। कंगना रनौत की बीएमसी के खिलाफ याचिका पर आज हाईकोर्ट में सुनवाई टल गई है। अब इस मामले में  22 सितंबर को अगली सुनवाई होगी। कंगना ने बीएमसी की तोड़फोड़ के खिलाफ बॉम्बे हाई कोर्ट में अपील की थी। जिसपर आज दोपहर 3 बजे वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सुनवाई होनी थी। कंगना रनौत के वकील रिजवान सिद्दीकी से कोर्ट ने याचिका में कई सुधार करने की बात कही है। कोर्ट ने कहा है कि आपने जल्दबाजी में पिटिशन दाखिल की है। इसे दौबारा अच्छी तरह से फाइल करें। कोर्ट ने यह भी कहा कि 22 सितंबर तक ऑफिस में कोई कार्रवाई नही की जाएगी।

मुंबई पुलिस ने अभिनेत्री कंगना रनौत के उपनगर खार स्थित आवास और बांद्रा में उनके दफ्तर/बंगले के बाहर सुरक्षा बंदोबस्त किये हैं। एक अधिकारी ने बृहस्पतिवार को यह जानकारी दी। केंद्र सरकार ने कंगना को वाई प्लस श्रेणी की सुरक्षा प्रदान की है। उन्होंने हाल ही में मुंबई पुलिस की आलोचना की थी और महानगर की तुलना पाकिस्तान के कब्जे वाले कश्मीर (पीओके) से की थी, जिस पर उठे विवाद के बाद उन्हें केंद्र की ओर सुरक्षा प्रदान की गयी है। शिवसेना ने उनके बयानों की निंदा की। कंगना बुधवार को हिमाचल प्रदेश में अपने घर से मुंबई लौटी थीं।

उनके लौटने से कुछ समय पहले ही शिवसेना के नियंत्रण वाले बृहन्मुंबई महानगरपालिका बीएमसी) ने उनके बांद्रा स्थित बंगले/दफ्तर में ‘अवैध निर्माण कार्यों’ को गिराने की कार्रवाई शुरू की थी। हालांकि, कुछ समय बाद ही बंबई उच्च न्यायालय ने अभिनेत्री को राहत देते हुए बीएमसी द्वारा अवैध निर्माण को तोड़ने की प्रक्रिया पर रोक लगा दी।

अधिकारी ने बृहस्पतिवार को बताया, ‘‘कंगना के खार स्थित आवास के बाहर किसी भी अप्रिय घटना से निपटने के लिए एक पुलिस वाहन तैनात किया गया है जिसमें अधिकारी मौजूद हैं। इस टीम में महिला कांस्टेबल भी शामिल हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘इसके अलावा, उनके पाली हिल स्थित बंगले के बाहर भी इसी तरह की सुरक्षा के इंतजाम किये गये हैं। इस बंगले को कल नगर निगम ने आंशिक रूप से गिरा दिया था।’’

सूत्रों के मुताबिक, कंगना रनौत बृहस्पतिवार को अपने पाली हिल स्थित बंगले का दौरा कर सकती हैं। कंगना ने बुधवार को मुंबई लौटने के बाद महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री तथा शिवसेना अध्यक्ष उद्धव ठाकरे की आलोचना करते हुए कहा था, ‘‘जिस तरह से उनके दफ्तर को तोड़ा गया है, एक दिन उनका भी घमंड टूटेगा।’’

Share