केंद्र सरकार के फैसले को महबूबा ने बताया लोकतंत्र का काला दिन

केंद्र सरकार के फैसले को महबूबा ने बताया लोकतंत्र का काला दिन

नई दिल्ली। भारत की सियासत में आज एक ऐतिहासिक दिन है। मोदी सरकार की उपलब्धियों में आज एक अध्याय और जुड़ गया है। अफवाहें, अनुमान, अटकलें और आशंकाओं के बीच जम्मू कश्मीर पर गृह मंत्री अमित शाह आज राज्यसभा में धारा 370 को हटाने का संकल्प पेश किया। इसके अलावा मोदी सरकार ने बड़ा फैसला लेते हुए जम्मू कश्मीर को दो हिस्सों में बांट दिया है।

मोदी सरकार के इस फैसले की आलोचना करते हुए पूर्व सीएम और PDP अध्यक्ष महबूबा मुफ्ती ने कहा कि आज भारतीय लोकतंत्र में सबसे काला दिन है। 1947 में 2 राष्ट्र सिद्धांत को खारिज करने और भारत के साथ संरेखित करने के जम्मू और कश्मीर नेतृत्व के निर्णय ने पीछे छोड़ दिया। भारत सरकार की धारा 370 को रद्द करने का एकतरफा निर्णय गैरकानूनी और असंवैधानिक है जो भारत को जम्मू-कश्मीर में एक व्यावसायिक शक्ति बना देगा।

Mehbooba Mufti

@MehboobaMufti

Today marks the darkest day in Indian democracy. Decision of J&K leadership to reject 2 nation theory in 1947 & align with India has backfired. Unilateral decision of GOI to scrap Article 370 is illegal & unconstitutional which will make India an occupational force in J&K.

Mehbooba Mufti

@MehboobaMufti

It will have catastrophic consequences for the subcontinent. GOIs intentions are clear. They want the territory of J&K by terrorising it’s people. India has failed Kashmir in keeping its promises.

1,852 people are talking about this
महबूबा ने आगे कहा कि उपमहाद्वीप के लिए इसके भयावह परिणाम होंगे। भारत सरकार के इरादे स्पष्ट हैं। वे जम्मू-कश्मीर का इलाका चाहते हैं कि वहां के लोग आतंकित हों। भारत कश्मीर के लोगों से किए अपने वादों को निभाने में विफल रहा है।
Share