केरल से टकराया मानसून, मौसम विभाग ने जताया था 1 जून को आने का पूर्वानुमान

केरल से टकराया मानसून, मौसम विभाग ने जताया था 1 जून को आने का पूर्वानुमान

नई दिल्ली। प्राइवेट वेदर एजेंसी स्काईमेट ने दावा किया है कि 30 मई (शनिवार)को मानसून केरल के तट से टकरा गया। भारतीय मौसम विभाग (आईएमडी)के पूर्वानुमान के उलट दो दिन पहले ही मानसून केरल पहुंच गया। आईएमडी ने 1 जून को मानसून के पहुंचने की बात कही थी।

SkymetWeather@SkymetWeather

Southwest finally arrived on the mainland of India, arrived on Kerala before the actual onset date. All the onset conditions including rainfall, OLR value, wind speed, etc are met. Finally, the 4-month long festival begins for Indian.

 
मौसम विभाग ने अप्रैल में कहा था कि इस बार मानसून औसत ही रहने वाला है। विभाग के मुताबिक, 96 से 100% बारिश को सामान्य मानसून माना जाता है। पिछले साल यह आठ दिन की देरी से 8 जून को केरल के समुद्र तट से टकराया था। भारत में जून से सितंबर के बीच दक्षिण-पश्चिम मानसून से बारिश होती है।

आधे से ज्यादा खेती सिंचाई के लिए बारिश पर निर्भर

भारत जैसे कृषि प्रधान देश के लिए मानसून बेहद जरूरी है। अर्थव्यवस्था का बड़ा हिस्सा कृषि आधारित है। देश में आधे से ज्यादा खेती सिंचाई के लिए बारिश पर ही निर्भर होती है। चावल, मक्का, गन्ना, कपास और सोयाबीन जैसी फसलों के लिए बारिश बेहद जरूरी होती है।

कोरोना महामारी के चलते देशभर में लॉकडाउन लागू है। इस वजह से एशिया की तीसरी सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था में शुमार भारतीय अर्थव्यवस्था इन दिनों मुश्किलों का सामना कर रही है।

Share