गर्मी के मौसम में गांव में पानी के प्राक्रतिक स्रोतों की सफाई में जुटे नरेंद्र प्रसाद आगरी

गर्मी के मौसम में गांव में पानी के प्राक्रतिक स्रोतों की सफाई में जुटे नरेंद्र प्रसाद आगरी

अल्मोड़ा। ग्रमियो के दिन आ गये हैं, ऐसे में अब पानी की समस्या भी बढ़ने लगी है। वही दूसरी तरफ कोरोना महामारी की वजह से लोग अपने अपने गांव घरो में वापस आ रहे हैं। आज हम आपको बताते है अल्मोडा जिले के मनिआगर गांव की कहानी। इस गांव में लगभग 7500 लोग निवास करते हैं और इनमे से आधी संख्या शहरो में रोज़गार में लगी हुयी हैं, लेकिन आजकल कोरोना महामारी की वजह से ये लोग भी वापस गांव में आये हैं।

20200602_131124

इस गांव में पानी की समस्या हमेशा से ही बनी रहती है जिसकी वजह से गांव वालो को गर्मियो में पानी की समस्या से जूझना पडता है। इस समस्या से निजात दिलाने के लिये नरेंद्र प्रसाद आगरी जी जो जिला मंत्री भारतीय जनता पार्टी अल्मोडा है व क्षेत्र पंचायत सदस्य धौलादेवी भी है। इन्होने गांव के युवाओ को साथ में लेकर गांव के पुराने प्राकृतिक स्रोतों की सफाई का अभियान चलाया और गांव के पानी के प्राक्रतिक स्रोतों की सफाई और ब्लिचिग पाउडर का छिडकाव कर इनको नया जीवन दान दे दिया।

IMG-20200602-WA0001

आज मैचून और मनिआगर गांव के बीच में पडने वाले इन प्राकृतिक स्रोतों के पानी से आज दोनो गांव के लोगों अपनी प्यास बुझा रहे हैं। अगर हर युवा नरेंद्र प्रसाद आगरी जी की तरह ही गांव को अपना घर समझे और गॉव के जलाशयो को बचाने के लिये आगे आये तो पानी की समस्या से निजात मिल सकती है। वही नरेन्द्र प्रसाद आगरी जी का कहना है कि गांव के युवा लडको की वजह से ही ये सब कुछ हुआ है।

Share