दबंगों ने दलित महिला का शव जबरन उठवाया चिता से, धमकाते हुए कही ये बात

दबंगों ने दलित महिला का शव जबरन उठवाया चिता से, धमकाते हुए कही ये बात

आगरा। उत्तर प्रदेश में जातिवाद किस कदर लोगों के दिल-ओ-दिमाग पर हावी है, इसकी बानगी आगरा में दिखी। यहां एक दलित महिला की मौत के बाद परिवार वालों ने गांव के बाहर एक श्मशान में अंतिम संस्कार की तैयारी की। लेकिन कुछ दबंगों ने वहां पहुंचकर शव को चिता से उठाने को कहा। वे कहने लगे कि श्मशान घाट उनका है, दलित यहां अंतिम संस्कार नहीं कर सकते। पीड़ित परिवार ने इसे अपनी किस्मत समझकर पुलिस में रिपोर्ट तक नहीं की और दूसरे श्मशान में जाकर अंतिम संस्कार किया। इस घटना के एक हफ्ते बाद पुलिस सक्रिय हुई है।

20 जुलाई को एक महिला की बीमारी से मौत हो गई थी। अंतिम संस्कार से पहले गांव के कुछ दबंगों ने आकर मृतक के परिवार वालों को रोक दिया। मृतक का 6 साल का बेटा इन सब बातों से अनजान था। उसे तो यह भी पता था कि मां अब कभी नहीं उठेगी। बच्चा अपने दादा की मदद से मां की चिता के चक्कर लगा रहा था और मुखाग्नि देने की कोशिश कर रहा था, लेकिन दबंगों ने उसे रोक दिया।

श्मशान की जमीन को लेकर है विवाद
घटना अछनेरा तहसील के रायभा गांव की है। यहां नट जाति के लोग रहते हैं। काफी समय से श्मशान की जमीन को लेकर गांव के कुछ लोगों से उनका विवाद है। जब भी नट समाज में किसी की मौत होती है तो अंतिम संस्कार पर विवाद होता है।

एसएसपी बबलू कुमार ने बताया कि सीओ अछनेरा को इस मामले की जांच सौंपी गई है। दोषियों के खिलाफ कार्रवाई की जाएगी। गांव में करीब सात श्मशान हैं। जिन्हें अलग-अलग जाति के लोग इस्तेमाल करते हैं।

Share