देहरादून की रैली में विपक्ष पर जमकर बरसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

देहरादून की रैली में विपक्ष पर जमकर बरसे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी

देहरादून। उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में रैली को संबोधित करते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कांग्रेस पर निशाना साधा। अगस्ता वेस्टलैंड डील पर बोलते हुए पीएम मोदी ने कहा कि आपको याद होगा कि आपका ये चौकीदार हैलिकॉप्टर घोटाले के कुछ दलालों को दुबई से उठाकर ले आया था। इटली के मिशेल मामा और दूसरों दलालों से पूछताछ हुई है। इसके आधार पर दायर चार्जशीट के अनुसार हैलीकॉप्टर घोटालों के दलालों ने जिन्हें घूस दी है उसमें एक AP और दूसरा FAM है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि इसी चार्जशीट में कहा गया है कि AP मतलब अहमद पटेल और FAM का मतलब है फैमिली। अब आप मुझे बताइये कि अहमद पटेल किस फैमिली के निकट हैं। एक जमाना था जिस परिवार की एयरपोर्ट पर भी तलाशी की भी कोई हिम्मत नहीं करता था, लोग उन्हें सैल्यूट करते थे, वो आज बेल पर हैं। जो खुद को भारत का भाग्य विधाता समझते थे, वो खुद को जेल जाने से बचाने के लिए सारी तिकड़म लगा रहे हैं।

कांग्रेस के घोषणा पत्र की आलोचना करते हुए पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि गर आप कांग्रेस के ढकोसला पत्र को पढ़ेंगे तो पता चलेगा कि कांग्रेस का हाथ किसके साथ है। कांग्रेस जम्मू कश्मीर में आतंकियों, पत्थरबाजों, विभाजन करने वालों के खिलाफ जवानों को जो कानून मिला है, अगर कांग्रेस सत्ता में आई तो वो सुरक्षा बलों को मिला ये सुरक्षा कवच हटा लेंगे। कांग्रेस पार्टी क्या कर रही है? जान दांव पर लगाने वाले हमारे सैनिक झूठे मुकदमों में फंसे रहें, ये व्यवस्था करना चाहती है। उनका हौसला टूट जाये, ऐसा काम कर रही है।

पीएम नरेंद्र मोदी ने पूछा कि आप मुझे बताइये, क्या देशद्रोह का कानून हटना चाहिए? देशद्रोहियों पर मुकदमें होने चाहिए या नहीं? देशद्रोहियों को सजा मिलनी चाहिए की नहीं, ये कांग्रेस पार्टी को हो क्या गया है? उन्होंने कहा कि कांग्रेस के ढकोसलापत्र से टुकड़े-टुकड़े गैंग खुश है, पाकिस्तान में बैठे कुछ लोग भी खुश हैं। वहीं जम्मू-कश्मीर में इनके साथी, हर रोज़ कश्मीर को अलग करने की धमकी दे रहे हैं की वो कश्मीर का अलग प्रधानमंत्री चाहते हैं, क्या इस देश में दो प्रधानमंत्री होंगे क्या?

महबूबा मुफ्ती के बयान पर पीएम नरेंद्र मोदी ने कहा कि ये सभी कांग्रेस के गठबंधन के साथी है और इनके इन बयानों पर अगर कांग्रेस चुप है तो उसे भी इसकी सजा मिलनी चाहिए। मैं हैरान हूं कि अपने इन साथियों को बचाने के लिए ही कांग्रेस देशद्रोह के कानून को हटाना चाहती है क्या? जब तक देश का बच्चा-बच्चा चौकीदार बना रहेगा, तब तक भारत की एक इंच जमीन पर भी आंच नहीं आएगी।

Share