जनता की समस्याओं के समाधान के लिए चुनाव मैदान में उतरा हूँ: वर्मा

जनता की समस्याओं के समाधान के लिए चुनाव मैदान में उतरा हूँ: वर्मा

हरिद्वार। उत्तराखंड की हरिद्वार लोकसभा सीट से निर्दलीय उम्मीदवार मनीष वर्मा ने मतदाताओं से अपील करते हुए कहा कि साथियो हर व्यक्ति का व्यक्तित्व समाचार पत्र के माध्यम से पता चला पर बहुत से सत्य सही होते है व कई गलत भी होते है । परंतु यदि कोई स्वयं शपथ पत्र दे तो उसकी पुष्टि भी हो जाती है। उन्होंने कहा कि मै उन प्रत्याशियों में से नही हूं जो जीतने के बाद पहले अपना घर भरते है फिर रिश्तेदारों का और उसके बाद मित्रो का और जनता के लिए तो उनके पास नम्बर ही नही आता।

वर्मा ने कहा मुझे ईश्वर की कृपा से और आप सबके आशीर्वाद से अपनी मेहनत की कमाई जो चुनाव से पहले ही प्राप्त हो चुका है वही संभाल लू बहुत है और अधिक की अब चाह नही है और मैंने तो इसके सदुपयोग के लिए चैरिटेबल ट्रस्ट भी बना दी है। मै आपको बताना चाहूँगा कि यह मेरे जीवन का आखिरी इलेक्शन है क्योंकि हर मनुष्य की एक आयु ईश्वर ने लिखी होती है और मेरी आयु मेरे ज्योतिषी के अनुसार 55 वर्ष तक ही होगी अभी मैं 48 वर्ष में प्रवेश कर चुका हूँ। और मै चाहता हूं कि मेरी हर बात पारदर्शी होनर जनता तक सीधे जाए ।

उन्होंने कहा जब मैंने गांव गांव पदयात्रा की तो पाया कि जनता की समस्याएं इतनी है कि उनका समाधान करने को प्रत्येक शनिवार व मंगलवार उनके गांव में बैठना ही होगा सभी अधिकारियों के साथ जनता दरबार लगा कर उनका समाधान करना होगा और तभी उनकी समस्याओं का सामाधान सही प्रकार से हों पायेगा। मेरी पदयात्रा का उद्देश्य भी यही था कि जब तक हम गांव गांव तक नही जाएंगे तो हमे समस्याओ के बारे में कैसे पता चलेगा और इसलिए मेरी 32 डायरियां भी भर चुकी है जन समस्याओ की, जिन्हें मैंने इस चुनाव को जीतने के बाद टाइप करवा कर एक-एक कर प्राथमिकता के आधार पर सुलझाना है।

मनीष वर्मा ने कहा मैंने निर्णय लिया है कि टाइप राइटर भी साथ लेकर ही चलूंगा जिससे किसी साथी /जनता को समस्या का तत्काल ही समाधान कर दिया जाए और वो ज्यादा देर लंबित न रहे तथा एक पारदर्शी पत्र बॉक्स हर गांव में पंचायत या पुलिस चौकी में रखा जाएगा जिसमे आप अपनी समस्या लिख कर डाल सकते है और वो सीधे मेरे कार्यालय में मेरी मॉनिटरिंग में खुलेगा और उस पर समाधान की सीधी कारवाही तत्काल की जाएगी इस कार्य मे मैं प्रत्येक गांव से युवा साथीयो को साथ लेना चाहूंगा जिससे उनके लिए रोजगार के साधन भी खुलते रहे।

उन्होंने कहा मेरी प्राथमिकता यह भी होगी कि मेरे लोकसभा क्षेत्र की 14 विधान सभाओं में एक- एक ऐसा उद्योग लगे जिसमे प्रत्येक गांव से बेरोजगार भाइयो को रोजगार मिल सके जैसा कि हरिद्वार में anchor, ITC, hero honda ,kalinga, havells हमने उस समय खुद लगवाये थे। क्योंकि बहुत कुछ विकास करने व उद्योग/रोजगार/बिजली/पानी/बजट/गौशाला /डेरी डेवलपमेंट आदि बनाने जैसी बहुमूल्य बातें मैने अपने राजनीतिक गुरु आदरणीय पंडित नारायण दत्त तिवारी से उनकी सरकार में राज्यमन्त्री का दर्जा रहते सीखी है और जो विकास की लहर उनके समय मे हरिद्वार व ऋषिकेश आस्था पथ के रूप में हुई वैसा आजतक दुबारा नही हो पाया।

उन्होंने कहा कि यह मेरा प्रथम प्रयास होगा कि जिस प्रकार हरिद्वार सिडकुल मेरे सामने तिवारी जी ने बनाया और हमने बड़ी-बड़ी फैक्टिर्यो व उद्योगपतियों को यहां जमीन अलॉट कर फैक्टरियां लगवाई और उसकी वजह से आज इतने लोग वहां रोजगार कर रहे है, वैसा संसाधन व रोजगार आदि सब दुबारा मेरे सम्पूर्ण हरिद्वार लोकसभा क्षेत्र में हो। अब आप लोगो ने सोच समझ कर 11 अप्रैल को अपना सांसद चुनना है और यह जरूर ध्यान रखिये की आप पहले एक बार कांग्रेस और एक बार भाजपा को मौका दे चुके है और समाजवादी पार्टी को जो अब बसपा के साथ गठबन्धन कर बैठी है। उसको उत्तराखंड की जनता कभी माफ नही करेगी क्योंकि समाजवादी पार्टी की ही सरकार थी।

मनीष वर्मा ने कहा जब उत्तराखंड के आंदोलनकारियो पर खटीमा, मसूरी में गोलियां चलाई गई थी और रामपुर तिराहा पर उत्तराखंड की मातृ शक्ति की इज़्ज़त को तार तार किया गया था वो मंज़र आज भी सभी उत्तराखंडीयो को झकजोर कर जाता है और आंखों से आंसू बहने लगते है। आज भी कितने हमारे साथी है जिन्हें आंदोलनकारी का दर्जा नही मिला और जिन्हें मिला उन्हें तो मजदूर से भी कम पेंशन मिली। आपदा के मारो की भुगतान की बात ही क्या करे वो भी अब तक दर दर भटक रहे है उसमें भी घोटाला हो गया (हरीश रावत के समय), हरिद्वार कुम्भ में भी घोटाला हो गया, 800 मेगावाट बिजली बनाने के पावर प्रोजेक्ट में 30 फर्जी कम्पनियां बना कर घोटाला सामने आया, एक दिन में ही ऋषिकेश की स्टूर्डिया जमीन घोटाला 300 करोड़ का सामने आया, 600 करोड़ का एन आर एच एम घोटाला (भाजपा के रमेश पोखरियाल के समय)।

उन्होंने कहा इस प्रकार किसी ने 56 घोटाले किये तो उसके बाद वालों ने 58 किए पर अब तक जांच किसी की सार्वजनिक नही हुई क्योंकि ये आपस में तय कर लेते है कि दोनो मिलकर चलेंगे और “नूरा कुश्ती ” (friendly fight ) जनता को बेवकूफ बनाने के लिए करते रहेंगे। अबकी बार क्या आपके मन मे है यह आपको सोचना है क्योंकि पार्टियां भारी-भारी विज्ञापन बनवाकर नौटंकी करवा कर जनता और युवाओं को मदिरा पिला कर व मांस खिला कर पथ भृष्ट कर देते है व जनता को इन 15 दिन बेवकुफ बना कर वोट ले जाती है और बेचारी जनता फिर 5 साल के लिए पार्टियो को ताकती रहती है। आपको इस बार पार्टियो को बताना है कि जनता ही जनार्दन है और जनता को यह ताकत हमेशा अपने पास रखनी चाइए कि जनता कुर्सी पर बैठाना जानती है तो उतारना भी जानती है। मेरा चुनाव चिन्ह “तुरहा बजाता हुआ आदमी “(रणसिंघा) है जो विजयी का प्रतीक भी है।

मनीष वर्मा ने कहा आप लोगो से विनती है कि जो बड़े बुजुर्ग, युवा साथी, भाई बहन,इष्ट मित्र मेरे इस यज्ञ/संकल्प में साथ लगे है उनकी यज्ञ के सफल कामना की पूर्ति के लिए, आपके क्षेत्र के विकास के लिए, मेरे बचे हुए समय में से ये 5 साल मुझे संसद में भेज कर अपना आशीर्वाद दे। मै सभी इष्ट देवी देवता के मंदिरों में सूफी संत पैगम्बरों की दरगाह पर यही मांग कर आया हूँ कि क्या कभी ऊपरवाला पढ़े लिखो को भी मौका देगा या नही या राबड़ी देवी जैसी 5 वी फेल को ही मुख्यमंत्री बनाता रहेगा या घोटालेबाज ही सांसद बनते रहेंगे। फैसला आप पर छोड़ता हूँ आप इस बार उचित फैसला लीजिएगा।

Share