‘लगातार भाषण’ देना सिद्धू को पड़ा भारी, ये हुआ अंजाम

‘लगातार भाषण’ देना सिद्धू को पड़ा भारी, ये हुआ अंजाम

चंडीगढ़। चुनावी रैलियों में ‘‘लगातार भाषण’’ देते रहने के कारण पंजाब के मंत्री और कांग्रेस के स्टार प्रचारक नवजोत सिंह सिद्धू का गला फिर खराब हो गया है। डॉक्टरों की सलाह पर क्रिकेटर से नेता बने सिद्धू को इंजेक्शन लगाया गया और वह स्‍टेरॉयड का सेवन कर रहे हैं। सिद्धू के कार्यालय की ओर से जारी एक बयान के मुताबिक, ‘‘लगातार भाषण से उनके वोकल कॉर्ड्स (गले का वो हिस्सा जहां से आवाज निकलती है)पर इतना असर पड़ा है कि खून भी निकला है।’’

कांग्रेस के प्रचार अभियान के तहत सिद्धू ने 28 दिनों में देश भर में 80 रैलियों को संबोधित किया। रविवार की सुबह सिद्धू ने डॉक्टरों से सलाह ली। उन्होंने सिद्धू को दो तरह के उपचार की सलाह दी।  बयान में कहा गया कि या तो गले पर बाम लगाना था, इससे वह चार दिन तक नहीं बोल पाते या फिर इंजेक्शन लगवाने और स्टेरॉयड के सेवन के साथ 48 घंटे तक पूरा आराम करना पड़ता। कांग्रेस नेता ने इंजेक्शन लगवाया और स्टेरॉयड के सेवन के साथ दो दिन तक आराम कर रहे हैं। इंजेक्शन का विकल्प इसलिए अपनाया गया क्योंकि बाम वाले विकल्प में चार दिन तक चुप रहना था।

बयान के मुताबिक सिद्धू उपचार करा रहे हैं और 14 मई को प्रचार के लिए वापसी के पहले ठीक हो रहे हैं। सिद्धू 14 मई को बिहार के पटना साहिब में, 15 मई को पोंटा साहिब, बिलासपुर और नालागढ़ और 16 तथा 17 मई को मध्य प्रदेश में चुनावी रैली को संबोधित करेंगे। यह दूसरी बार है जब सिद्धू का गला खराब हुआ है। पिछले साल राजस्थान, छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और तेलंगाना में विधानसभा चुनाव के समय उनका गला खराब हो गया था।

Share