पहले चरण के लिए थम गया शोर, 11 को होगा मतदान

पहले चरण के लिए थम गया शोर, 11 को होगा मतदान

नई दिल्ली। पहले चरण के लोकसभा चुनाव में 11 अप्रैल को होने वाले मतदान के लिए चुनाव प्रचार का शोर मंगलवार शाम थम गया। पहले चरण में 18 राज्यों और 2 केंद्र शासित प्रदेशों की 91 लोकसभा सीटों के लिए गुरुवार को मतदान होगा। आखिरी समय तक पार्टियां चुनाव प्रचार में जुटी रहीं। बीजेपी के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और पार्टी अध्यक्ष अमित शाह ने कई राज्यों में प्रचार किया। वहीं, कांग्रेस की तरफ से पार्टी अध्यक्ष राहुल गांधी ने मोर्चा संभाला। आपको बता दें कि पहले चरण में बीजेपी के कई दिग्गज नेताओं और केंद्रीय मंत्रियों की सीटों पर चुनाव होना है।

आयोग द्वारा घोषित चुनाव कार्यक्रम के अनुसार पहले चरण की ज्यादातर सीटों पर मतदान सुबह 7 बजे से शाम 6 बजे तक होगा। हालांकि नक्सल प्रभावित इलाकों और पूर्वोत्तर राज्यों में मतदान का समय सुबह 7 से शाम 5 बजे या सुबह 7 बजे से शाम 4 बजे या फिर सुबह 7 से दोपहर 3 बजे तक हो सकता है।

पहले चरण के चुनाव में बीजेपी के कई दिग्गज नेताओं की प्रतिष्ठा दांव पर होगी। इसी दिन मतदाता गाजियाबाद सीट पर विदेश राज्य मंत्री वीके सिंह और नागपुर से केंद्रीय सड़क एवं परिवहन मंत्री नितिन गडकरी की किस्मत का फैसला करेंगे। 11 अप्रैल को ही केंद्रीय मंत्री महेश शर्मा की सीट गौतमबुद्ध नगर और केंद्रीय मंत्री संजीव बालियान की सीट मुजफ्फरनगर और सत्यपाल सिंह की सीट बागपत पर भी चुनाव है।

आपको बता दें कि निर्वाचन नियमों के अनुसार मतदान खत्म होने के समय से ठीक 48 घंटे पहले चुनाव प्रचार थम जाता है। इसके मुताबिक जिन सीटों पर शाम चार बजे तक मतदान है, उन सीटों पर मंगलवार शाम चार बजे से प्रचार थम गया। इसी प्रकार पांच और छह बजे तक मतदान वाली सीटों पर मंगलवार शाम पांच बजे और छह बजे से प्रचार पर पाबंदी लागू हो गई। उत्तर प्रदेश की 8 और पश्चिम बंगाल की दो सीटों पर सुबह सात बजे से शाह छह बजे तक और बिहार, मणिपुर, मेघालय, नगालैंड और ओडिशा की सीटों पर सुबह सात बजे से शाम चार बजे तक मतदान होगा।

चुनाव आचार संहिता के मुताबिक 48 घंटे पहले चुनाव प्रचार अभियान थमने के दौरान सोशल मीडिया, प्रिंट और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया के अलावा जनसभा या किसी अन्य माध्यम से प्रचार प्रतिबंधित रहेगा। गौरतलब है कि चुनाव आयोग द्वारा पहले चरण के मतदान के लिए 18 मार्च को अधिसूचना जारी होने के बाद प्रचार अभियान जोर-शोर से शुरू हो गया था। आयोग ने 17वीं लोकसभा के गठन के लिए 543 सीटों पर सात चरणों में होने वाले चुनाव का कार्यक्रम 10 मार्च को घोषित किया था।
11 अप्रैल को आंध्र प्रदेश की सभी 25 लोकसभा और 175 विधानसभा सीटों के लिए एक साथ मतदान कराया जाएगा। आंध्र में TDP अध्यक्ष और मुख्यमंत्री चंद्रबाबू नायडू, YSR कांग्रेस के अध्यक्ष वाई एस जगनमोहन रेड्डी के साथ ही तीसरे प्लेयर के तौर पर अभिनेता से राजनेता बने पवन कल्याण की जन सेना है। तेलंगाना की भी सभी 17 सीटों पर पहले चरण में चुनाव होगा।

पहले चरण में आंध्र प्रदेश, अरुणाचल प्रदेश, मेघालय, उत्तराखंड, मिजोरम, नगालैंड, सिक्किम और तेलंगाना की सभी लोकसभा सीटों के लिए मतदान होगा। इसके अलावा उत्तर प्रदेश की आठ लोकसभा सीटों (सहारनपुर, कैराना, मुजफ्फरनगर, बिजनौर, मेरठ, बागपत, गाजियाबाद और नोएडा) और बिहार की चार सीटों (औरंगाबाद, गया, नवादा और जमुई), असम की पांच और महाराष्ट्र की सात, ओडिशा की चार और पश्चिम बंगाल की दो सीटों के लिए मतदान होगा।

Share