नशेड़ी पीएसआई ने रौब झाड़ने के लिए भीड़ में चलाई गोली

नशेड़ी पीएसआई ने रौब झाड़ने के लिए भीड़ में चलाई गोली

महुवा। जामनगर सिटी ट्रैफिक पीएसआई ने बीती रात शराब के नशे में महुवा पुलिस के एक जीआरडी जवान की मामूली बात को लेकर पिटाई कर दी। घटना के बाद ग्रामीणों की भीड़ जमा होने के बाद नशेड़ी पीएसआई ने लोगों में रौब झाड़ने के लिए अपनी सर्विस रिवॉल्वर से तीन राउंड फायरिंग की।

फायरिंग के बाद स्थल पर दौड़ भाग मच गई। घटना की सूचना पाते ही महुवा पुलिस की टीम घटनास्थल पर पहुंची और नशे में धुत्त पीएसआई सहित उसके साथी को गिरफ्तार कर लिया गया। महुवा पुलिस ने इस संदर्भ में पीएसआई के खिलाफ मामला दर्ज कर आगे की जांच शुरू कर दी है।

जानकारी के अनुसार महुवा तालुका के कढ़ैया गांव के विनायक चौधरी जामनगर सिटी ट्रैफिक पुलिस में पीएसआई पद पर तैनात है। जामनगर से तीन दिनों की छुट्टी लेकर वे अपने गांव आए थे। छुट्टी पूरी होने के बाद अपनी मां बीमार होने के कारण वापस छुट्टी पर थे। सोमवार की रात वे अपने दोस्त दिव्यकांत दिलीप माली के साथ मीयापुर गांव में खाना खाने के लिए गए थे। खाना खाकर लगभग 12 बजे पीएसआई विनायक चौधरी शराब के नशे में जी जे 21 एए 5772 नंबर की इनोवा कार लेकर महुवा तालुका के बामणिया गांव की सीमा में स्थित शुगर फैक्ट्री के सामने पहुंचे थे।

इस दौरान विनायक चौधरी पान की दुकान पर सामान ले रहे थे तभी महुवा पुलिस की ड्यूटी पर तैनात जीआरडी जवान हिरेन पटेल के साथ उनका विवाद हो गया। इसके बाद विनायक चौधरी ने नशे की हालत में ही उसकी पिटाई कर दी। नशे में धुत्त पीएसआई को समझाने का प्रयास किया गया। लेकिन चौधरी समझने के बजाए आक्रोश में आ गए तथा उन्होंने अपनी सर्विस रिवॉल्वर निकाली और जमीन पर ही तीन राउंड फायरिंग कर दी।

20190828_132624

पीएसआई विनायक चौधरी ने नशे की हालत में बामणिया शुगर फैक्ट्री के नजदीक से गुजर रहे थे। तभी पॉइंट पर तैनात जीआरडी के जवान के साथ उनकी बोलचाल के बाद मारपीट हो गई।

– रूरल सोलंकी, डीवाईएसपी

मेरी ड्यूटी पॉइंट वांसकुई सर्कल पर है। रात को जीआरडी हिरेन भाई का फोन आया कि पीएसआई ने विवाद किया है। इसलिए मै तुरंत वहां पहुंचा तो वहां पर विनायक चौधरी साहब थे। वे मेरे पीछे से पढ़ाई में साथ थे इसलिए मै उन्हें जानता था। इसलिए उन्होंने मुझसे हाथ मिलाया था और इसके बाद मुझे भी थप्पड़ मार दिया।

– खंडूभाई पटेल, जीआरडी, महुवा

पीएसआई विनायक चौधरी ने नशे की हालत में वाहन चलाकर जीआरडी जवान के साथ विवाद होने के बाद तीन राउंड फायरिंग करने के आपराधिक मामले में पुलिस ने गिरफ्तार किए गए पीएसआई का वाहन क्यों नहीं जब्त किया? ऐसा सवाल लोगों में उठाया जा रहा है। लोगों में यह भी सवाल उठाया जा रहा है कि पीएसआई ने नशा करने के लिए शराब कहां से खरीदी थी?

जामनगर सिटी ट्रैफिक पीएसआई विनायक चौधरी का एक सप्ताह में प्रमोशन की तैयारी थी। लेकिन अब उनके खिलाफ आर्म्स एक्ट तथा सरकारी कामकाज में दखलंदाजी के साथ साथ शराब के नशे में शिकायत दर्ज होने के बाद उनके प्रमोशन के समय में ही उन्हें जेल में रहना पड़ रहा है। इस संदर्भ में विभागीय जांच के बाद अब उन्हें प्रमोशन मिलेगा या नहीं इस पर चर्चा चल रही है। घटना के बाद महुवा पुलिस की टीम ने स्थल पर जांच शुरू कर दी है।

Share